Goddess Lakshmi Mantra to Overcome Poverty and to Become Rich

Goddess Lakshmi Mantra to Overcome Poverty and to Become Rich 

 

 

 

Emergence of Lakshmi

Lakshmi is the Hindu Goddess who governs all form of wealth and success and the paths, means and results of all forms of prosperity. As the Consort of Lord Vishnu, who is the god of preservation, Lakshmi Devi is the goddess of health and beauty. Sri Lakshmi embodies sublime beauty, siddhi, peace, strength, balance, auspiciousness, opulence and wisdom.

Goddess Lakshmi Mantra to Overcome Poverty and to Become Rich

Goddess Lakshmi Mantra to Overcome Poverty and to Become Rich

 

 

Lakshmi’s Incarnation into being
The story of Lakshmi’s birth begins when the Devas (minor gods) were in a race against the Asuras (demons) to obtain amrit (the nectar of immorality). The Devas consulted Vishnu who was on earth as Kurma, a tortoise. They decided they would churn the oceans for the amrit. They created to churn by the threading the serpent Vasuki around Mount Mandara. Kurma dived to the ocean floor and balanced Mount Mandara on his back.

In the grip of Kurma’s cosmic clutch, the mountain could not sink into the ocean bed. The gods churned and received the Nectar of Immortality from Lakshmi Devi and then fourteen treasures came to their hands. Lakshmi Chose Vishnu as Her Consort. Vishnu carried Lakshmi from the ocean into His heaven. Each time Vishnu descends on earth as an avatar. He is accompanied by an avatar of Lakshmi.

Meaning of Lakshmi
As a female counterpart of Lord Vishnu, Mata Lakshmi is also called “Shri”, the female of the Supreme Being. Goddess Lakshmi means “Good Luck” to Hindus. The word “Lakshmi” is derived from the Sanskrit word “Laksya”, meaning ‘aim’ or ‘goal’, and she is the goddess of wealth and prosperity, both material and spiritual. Also ‘lakh’ which means “one hundred thousand’ as a monetary unit in India, is the first part of Lakshmi’s name, symbolizing her blessings that pour forth abundantly.

Durga Saptashati Mantra Chanting Effects in Navratri

दुर्गा सप्तशती के पाठ का महत्व

Durga Saptashati Mantra Chanting Effects in Navratri

Durga Saptashati Mantra Chanting Effects in Navratri

Durga Saptashati Mantra Chanting Effects in Navratri

माँ दुर्गा की आराधना और उनकी कृपा प्राप्त करने के लिए दुर्गा सप्तशती का पाठ सर्वोत्तम है । दुर्गा शक्ति की उत्पत्ति तथा उनके ‍चरित्रों का वर्णन मार्कण्डेय पुराणां के अंतर्गत देवी माहात्म्य में किया गया है। भुवनेश्वरी संहिता में कहा गया है- जिस प्रकार से ”वेद” अनादि है, उसी प्रकार ”सप्तशती” भी अनादि है।

 

दुर्गा सप्तशती 700 श्लोकों में देवी-चरित्र का वर्णन है। दुर्गा सप्तशती में कुल 13 अध्याय हैं, और यह मुख्य रूप से ये तीन चरित्र प्रथम चरित्र (इसमें प्रथम अध्याय), मध्यम चरित्र (इसमें दूसरा, तीसरा, और चौथा अध्याय) और उत्तम ‍चरित्र (इसमें पाँचवे से तेरहवें अध्याय) में है । प्रथम चरित्र की देवी महाकाली, मध्यम चरित्र की देवी महालक्ष्मी और तीसरे उत्तम ‍चरित्र की देवी महासरस्वती मानी गई है। दुर्गा सप्तशती में माँ महाकाली की स्त‍ुति एक अध्याय में, माँ महालक्ष्मी की स्तुति तीन अध्यायों में और माँ महासरस्वती की स्तुति नौ अध्यायों में वर्णित की गयी है।
इस दुर्गा सप्तशती में मारण के 90,
मोहन के 90,
उच्चाटन के 200,
स्तंभन के 200
वशीकरण के 60 और
विद्वेषण के भी 60  प्रयोग दिए गए हैं। इस प्रकार यह कुल 700 श्लोक 700 प्रयोगों के समान माने गये हैं।
दुर्गा सप्तशती में राजा सुरथ जिनका शत्रुओं और दुष्ट मंत्रियों के कारण सम्पूर्ण राजपाट, कोष , सेना और बहुमूल्य वस्तुएँ सब कुछ हाथ से छिन गया था और समाधि नामक वैश्य जिसकी दुष्ट स्त्री और पुत्र ने धन के लोभ में उसको घर से निकाल दिया था लेकिन इतना सब कुछ हो जाने के बाद निराशा से घिरे होने के बाद भी उन दोनों का मन अपने घर परिवार, अपने राज्य और अपने परिजनों में ही आसक्त था उन दोनों को मेघा ऋषि ने ज्ञान दिया है।

इस देवी महात्म्य के श्रवण के बाद राजा सुरथ और समाधि वैश्य दोनों ने ही माँ आदि शक्ति की आराधना की। तत पश्चात देवी की कृपा से राजा सुरथ को उनका खोया राज्य और वैश्य को भी पूर्ण जान प्राप्त हुआ। उसी प्रकार जो व्यक्ति माँ भगवती की आराधना करते हैं सभी मनोरथ पूर्ण होते है।

 ऐसी मान्यता है कि दुर्गा सप्तशती के केवल 100 बार पाठ करने से सभी तरह की सिद्धियाँ प्राप्त होती है। 

 

महर्षि मेधा ने सर्वप्रथम राजा सुरथ और समाधि वैश्य को यह अदभुत दुर्गा का चरित्र सुनाया। उसके पश्चात महर्षि मृकण्डु के पुत्र चिरंजीवी मार्कण्डेय ने मुनिवर भागुरि को यही कथा सुनाई थी । यही कथा द्रोण पुत्र पक्षिगण ने महर्षि जैमिनी को सुनाई थी। जैमिनी ऋषि महर्षि वेदव्यास जी के शिष्य थे। फिर इसी कथा संवाद का सम्पूर्ण जगत के प्राणियों के कल्याण के लिए महर्षि वेदव्यास ने मार्कण्डेय पुराण में यथावत् क्रम वर्णन किया है ।

 

मार्कण्डेय पुराण में ब्रह्माजी ने मनुष्यों की रक्षा के लिए परम गोपनीय साधन, माँ का देवी कवच एवं परम पवित्र किन्तु आसान उपाय संपूर्ण प्राणियों को बताये है । श्री दुर्गा सप्तशती का पाठ सभी तरह के मनोरथ सिद्धि के लिए करते है ।

श्री दुर्गा सप्तशती महात्म्य धर्म, अर्थ, काम एवं मोक्ष चारों पुरुषार्थों को प्रदान करता है। दुर्गा सप्तशती के सभी तेरह अध्याय अलग अलग इच्छित मनोकामना की सहर्ष ही पूर्ति करते है ।

 
* प्रथम अध्याय: – इसके पाठ से सभी प्रकार की चिंता दूर होती है एवं शक्तिशाली से शक्तिशाली शत्रु का भी भय दूर होता है शत्रुओं का नाश होता है । 
* द्वितीय अध्याय:-  इसके पाठ से बलवान शत्रु द्वारा घर एवं भूमि पर अधिकार करने एवं किसी भी प्रकार के वाद विवाद आदि में विजय प्राप्त होती है । 
* तृतीय अध्याय: – तृतीय अध्याय के पाठ से युद्ध एवं मुक़दमे में विजय, शत्रुओं से छुटकारा मिलता है । 
* चतुर्थ अध्याय: – इस अध्याय के पाठ से धन, सुन्दर जीवन साथी एवं माँ की भक्ति की प्राप्ति होती है । 
* पंचम अध्याय: – पंचम अध्याय के पाठ से भक्ति मिलती है, भय, बुरे स्वप्नों और भूत प्रेत बाधाओं का निराकरण होता है । 
 
* छठा अध्याय: – इस अध्याय के पाठ से समस्त बाधाएं  दूर होती है और समस्त मनवाँछित फलो की प्राप्ति होती है ।
* सातवाँ अध्याय: – इस अध्याय के पाठ से ह्रदय की समस्त कामना अथवा किसी विशेष गुप्त कामना की पूर्ति होती है ।
* आठवाँ अध्याय: – अष्टम अध्याय के पाठ से धन लाभ के साथ वशीकरण प्रबल होता है ।
* नौवां अध्याय:-  नवम अध्याय के पाठ से खोये हुए की तलाश में सफलता मिलती है, संपत्ति एवं धन का लाभ भी प्राप्त होता है ।
* दसवाँ अधयाय:- इस अध्याय के पाठ से गुमशुदा की तलाश होती है, शक्ति और संतान का सुख भी प्राप्त होता है ।

* ग्यारहवाँ अध्याय:- ग्यारहवें अध्याय के पाठ से किसी भी प्रकार की चिंता,  व्यापार में सफलता एवं सुख-संपत्ति की प्राप्ति होती है ।

 

* बारहवाँ अध्याय:-  इस अध्याय के पाठ से रोगो से छुटकारा, निर्भयता की प्राप्ति होती है एवं समाज में  मान-सम्मान मिलता है ।

* तेरहवां अध्याय:- तेरहवें अध्याय के पाठ से माता की भक्ति एवं सभी इच्छित वस्तुओं की प्राप्ति होती है ।

 

मनुष्य जब तक जीवित है तब तक उसके जीवन में उतार चढ़ाव आते ही रहते है । मनुष्य की इच्छाएं अनंत हुई और इन्ही की पूर्ति के लिए दुर्गा सप्तशती से सुगम और कोई भी मार्ग नहीं है । इसीलिए नवरात्र में विशेष रूप से दुर्गा सप्तशती के तेरह अध्यायों का पाठ करने का विधान है। प्रतिदिन पाठ करने वाले मनुष्य एक दिन में पूरा पाठ न कर पाएं, तो वे एक, दो, एक, चार, दो, एक और दो अध्यायों के क्रम से सात दिनों में पाठ पूरा कर सकते हैं। संपूर्ण दुर्गासप्तशती का पाठ न करने वाले मनुष्य को देवी कवच, अर्गलास्तोत्र, कीलकम का पाठ करके देवी सूक्तम को अवश्य ही पड़ना चाहिए।

 

पं० कृष्णकुमार शास्त्री

 

Lord Shiva Prayer

 

Lord-shiva-parwathi

Lord-shiva-parwathi

 

समस्त संसार के स्वामी परमेश्वरी शिवा के पति भगवान विष्णु के प्राण प्रिय भगवान सदाशिव की कृपा माता आदिशक्ति सहित हम पर बनी रहे ।

माता लक्ष्मी के पति शिव जी के परम प्रिय श्री नारायण सदैव माता लक्ष्मी सहित हम पर प्रसन्न रहे ।

हे वृषभ की सवारी करने वाले परमेश्वर हम पर प्रसन्न होईये ।

हे गरुड की सवारी करने वाले जगतपालक भगवान श्री हरि हम पर प्रसन्न होईये ।

हे हरिहर अपनी कृपादृष्टि मुझ पर कीजिये और हमेँ अपना प्रिय बनाईये आपकी कृपा से मुझे आपका सायुज्य प्राप्त हो ऐसी कृपा करिये नाथ ।
मेरी प्रीति सदा आपके चरणोँ मेँ बनी रहे ये आशीष देँ ।
आपके सेवक ‘रुद्र’ की ये अर्ज स्वीकार करे ।
जय शिव शक्ति
जय लक्ष्मी नारायण

-रुद्र शर्मा