Diwali/Deepavali in India 2016 Dates

Deepavali, or Diwali, is a festival celebrated by all Hindus to commemorate Lord Rama and his wife, Sita’s return to Ayodhya after his 14-year exile. It was a dark night when they first returned hence his people lit their houses with little lamps (diyas) so that Rama and Sita could find their way.

 

Deepwali-rangoli-decoration

Deepwali Rangoli

 

 

Diwali/Deepavali in India

Diwali (Dīvali, Dīpāwali, Deepavali, Dipabali) is a festival of lights and is a gazetted holiday in India. Followers of Buddhism, Hinduism, Jainism and Sikhism observe various customs related to Diwali.

india-diwali

What do people do?

Diwali celebrations may last for up to five days. Many people decorate their home and workplaces with tiny electric lights or small clay oil lamps. Bowls of water with candles and flowers floating on the surface are also popular decorations.

Many people make a special effort to clean their homes and yards before Diwali. They may also wash themselves with water and fragrant oils, wear new clothes and give gifts of sweets to family members, close friends and business associates. Fireworks are set off in the evening in some areas. Melas (fairs) are held in many towns and villages.

People in different regions in India may celebrate Diwali on various dates. This is because traditional lunar calendars can be interpreted in different ways. For example, Deepavali in Tamil Nadu is celebrated in the Tamil month of Aipasi.

Public life

Government offices, post offices and banks are closed in India on Diwali. Stores and other businesses and organizations may be closed or have reduced opening hours. Transport is usually unaffected as many locals travel for religious celebrations. However those wishing to use public transport on the day should check with the local transport authorities on public transit schedules.

Background

Deepawali or Diwali is a festival of lights symbolizing the victory of righteousness and the lifting of spiritual darkness.  The word “Deepawali” refers to rows of diyas, or clay lamps. This is one of the most popular festivals in the Hindu calendar. It is celebrated on the 15th day of Kartika, according to the Hindu calendar. This festival commemorates Lord Rama’s return to his kingdom Ayodhya after completing his 14-year exile. The myths around Rama and Ravana are told during another holiday, known as Dussehra or Vijaya Dashami.

The Goddess Lakshmi was Vishnu’s consort and she symbolizes wealth and prosperity. She is also worshipped on Diwali. This festival is celebrated in West Bengal as “Kali Puja”, and Kali, Shiva’s consort, is worshipped during Diwali. The Diwali festival in southern India often commemorates the conquering of the Asura Naraka, a king of Assam who imprisoned many people. It is believed that Krishna freed the prisoners.

Many Buddhists in India mark anniversary of the Emperor Ashoka’s conversion to Buddhism around the time of Diwali. Many scholars believe that Ashoka lived between 270BCE and 232 BCE. Many people who observe Jainism mark the anniversary of Mahavira’s (or Lord Mahavir) attainment of nirvana on October 15, 527 BCE. Mahavira established the central spiritual ideas of Jainism. Many Jains celebrate the Festival of Lights in his honor.

Bandi Chhorh Divas, which is the Sikh celebration of the sixth Nanak’s (Guru Har Gobind) return from detention in the Gwalior Fort, coincides with Diwali. This coincidence has resulted in the similarity of celebrating the day among many Sikhs and Hindus.

Symbols

Electric lights, small oil lamps made of clay and flames are important Diwali symbols. They represent both physical and spiritual aspects of light.

Deepavali Depawali, Dipavali, Dewali, Diwali, Divali, Dipotsavi, Dipapratipad ) marks the beginning of the Hindu New Year according to the Lunar Calendar. It literally translated means ‘Row of Lights’ (from Sanskrit: dipa = lamp / awali = row, line). It celebrates the victory of Goodness over Evil and Light over Darkness – it ushers in the new year. Especially for this event people are cleaning their houses and wear new clothes. Deepavali is a 4 day festival as Deepavali, Lakshmi Puja, Kartika Shuddha Padwa and Yama Dvitiya. There are many different names for the days of Deepavali (or Diwali) in different regions of India (South & North India, East & West India) and in the different languages spoken in that regions (i.e. Hindi, Urdu, Telugu, Tamil, Gujarati, Bengali). During Deepavali people pray to Lakshmi, Goddess of wealth, light, prosperity and wisdom, but also to Ganesha, the ‘Remover of Obstacles’ and the ‘Lord of Beginnings’.

Deepavali celebrations take place in many countries in the world. On the first day of the Deepavali festival people pray and having a special breakfast made of many different foods. The Hindu Goddess Lakshmi’s statue and images are carried through the streets in processions. There are various legends and stories associated with the Deepavali festival. The story of Bali, Emergence of Laxmi, Krishna Narakasur Fight, Victory of Rama over Ravana and many more. Dipa Lights (also called Diwali Diyas, Kandils, Ghee Lamps or Parvati Ganesha Lamps) – made of clay, fueled with Oil from Coconuts, Mustard or Ghee (clarified butter), the wick made of cotton wool – are placed outside of houses, on floors and doorways. During Deepavali festival, doorways are hung with torans of mango leaves and marigolds. Deepavali Melas are being enjoyed by Hindus, Sikhs, Jains & Buddhists alike. On the day of Deepavali people exchange gifts, bursting firecrackers, lighting fireworks, colourful sparklers & bonfires and having festive meals. Diwali Melas (fairs) are held throughout India and the celebrations abroad. The Indian Festival of Lights takes place after the monsoon season has finished and the weather is nice and pleasant again.

Wishing Happy Deepavali to everyone!  Shubh Diwali!!


Vashikaran Specialist Ambala Cantt
BECOME RICH OVERNIGHT BY THIS MANTRA

Durga Saptashati Mantra Chanting Effects in Navratri

दुर्गा सप्तशती के पाठ का महत्व

Durga Saptashati Mantra Chanting Effects in Navratri

Durga Saptashati Mantra Chanting Effects in Navratri

Durga Saptashati Mantra Chanting Effects in Navratri

माँ दुर्गा की आराधना और उनकी कृपा प्राप्त करने के लिए दुर्गा सप्तशती का पाठ सर्वोत्तम है । दुर्गा शक्ति की उत्पत्ति तथा उनके ‍चरित्रों का वर्णन मार्कण्डेय पुराणां के अंतर्गत देवी माहात्म्य में किया गया है। भुवनेश्वरी संहिता में कहा गया है- जिस प्रकार से ”वेद” अनादि है, उसी प्रकार ”सप्तशती” भी अनादि है।

 

दुर्गा सप्तशती 700 श्लोकों में देवी-चरित्र का वर्णन है। दुर्गा सप्तशती में कुल 13 अध्याय हैं, और यह मुख्य रूप से ये तीन चरित्र प्रथम चरित्र (इसमें प्रथम अध्याय), मध्यम चरित्र (इसमें दूसरा, तीसरा, और चौथा अध्याय) और उत्तम ‍चरित्र (इसमें पाँचवे से तेरहवें अध्याय) में है । प्रथम चरित्र की देवी महाकाली, मध्यम चरित्र की देवी महालक्ष्मी और तीसरे उत्तम ‍चरित्र की देवी महासरस्वती मानी गई है। दुर्गा सप्तशती में माँ महाकाली की स्त‍ुति एक अध्याय में, माँ महालक्ष्मी की स्तुति तीन अध्यायों में और माँ महासरस्वती की स्तुति नौ अध्यायों में वर्णित की गयी है।
इस दुर्गा सप्तशती में मारण के 90,
मोहन के 90,
उच्चाटन के 200,
स्तंभन के 200
वशीकरण के 60 और
विद्वेषण के भी 60  प्रयोग दिए गए हैं। इस प्रकार यह कुल 700 श्लोक 700 प्रयोगों के समान माने गये हैं।
दुर्गा सप्तशती में राजा सुरथ जिनका शत्रुओं और दुष्ट मंत्रियों के कारण सम्पूर्ण राजपाट, कोष , सेना और बहुमूल्य वस्तुएँ सब कुछ हाथ से छिन गया था और समाधि नामक वैश्य जिसकी दुष्ट स्त्री और पुत्र ने धन के लोभ में उसको घर से निकाल दिया था लेकिन इतना सब कुछ हो जाने के बाद निराशा से घिरे होने के बाद भी उन दोनों का मन अपने घर परिवार, अपने राज्य और अपने परिजनों में ही आसक्त था उन दोनों को मेघा ऋषि ने ज्ञान दिया है।

इस देवी महात्म्य के श्रवण के बाद राजा सुरथ और समाधि वैश्य दोनों ने ही माँ आदि शक्ति की आराधना की। तत पश्चात देवी की कृपा से राजा सुरथ को उनका खोया राज्य और वैश्य को भी पूर्ण जान प्राप्त हुआ। उसी प्रकार जो व्यक्ति माँ भगवती की आराधना करते हैं सभी मनोरथ पूर्ण होते है।

 ऐसी मान्यता है कि दुर्गा सप्तशती के केवल 100 बार पाठ करने से सभी तरह की सिद्धियाँ प्राप्त होती है। 

 

महर्षि मेधा ने सर्वप्रथम राजा सुरथ और समाधि वैश्य को यह अदभुत दुर्गा का चरित्र सुनाया। उसके पश्चात महर्षि मृकण्डु के पुत्र चिरंजीवी मार्कण्डेय ने मुनिवर भागुरि को यही कथा सुनाई थी । यही कथा द्रोण पुत्र पक्षिगण ने महर्षि जैमिनी को सुनाई थी। जैमिनी ऋषि महर्षि वेदव्यास जी के शिष्य थे। फिर इसी कथा संवाद का सम्पूर्ण जगत के प्राणियों के कल्याण के लिए महर्षि वेदव्यास ने मार्कण्डेय पुराण में यथावत् क्रम वर्णन किया है ।

 

मार्कण्डेय पुराण में ब्रह्माजी ने मनुष्यों की रक्षा के लिए परम गोपनीय साधन, माँ का देवी कवच एवं परम पवित्र किन्तु आसान उपाय संपूर्ण प्राणियों को बताये है । श्री दुर्गा सप्तशती का पाठ सभी तरह के मनोरथ सिद्धि के लिए करते है ।

श्री दुर्गा सप्तशती महात्म्य धर्म, अर्थ, काम एवं मोक्ष चारों पुरुषार्थों को प्रदान करता है। दुर्गा सप्तशती के सभी तेरह अध्याय अलग अलग इच्छित मनोकामना की सहर्ष ही पूर्ति करते है ।

 
* प्रथम अध्याय: – इसके पाठ से सभी प्रकार की चिंता दूर होती है एवं शक्तिशाली से शक्तिशाली शत्रु का भी भय दूर होता है शत्रुओं का नाश होता है । 
* द्वितीय अध्याय:-  इसके पाठ से बलवान शत्रु द्वारा घर एवं भूमि पर अधिकार करने एवं किसी भी प्रकार के वाद विवाद आदि में विजय प्राप्त होती है । 
* तृतीय अध्याय: – तृतीय अध्याय के पाठ से युद्ध एवं मुक़दमे में विजय, शत्रुओं से छुटकारा मिलता है । 
* चतुर्थ अध्याय: – इस अध्याय के पाठ से धन, सुन्दर जीवन साथी एवं माँ की भक्ति की प्राप्ति होती है । 
* पंचम अध्याय: – पंचम अध्याय के पाठ से भक्ति मिलती है, भय, बुरे स्वप्नों और भूत प्रेत बाधाओं का निराकरण होता है । 
 
* छठा अध्याय: – इस अध्याय के पाठ से समस्त बाधाएं  दूर होती है और समस्त मनवाँछित फलो की प्राप्ति होती है ।
* सातवाँ अध्याय: – इस अध्याय के पाठ से ह्रदय की समस्त कामना अथवा किसी विशेष गुप्त कामना की पूर्ति होती है ।
* आठवाँ अध्याय: – अष्टम अध्याय के पाठ से धन लाभ के साथ वशीकरण प्रबल होता है ।
* नौवां अध्याय:-  नवम अध्याय के पाठ से खोये हुए की तलाश में सफलता मिलती है, संपत्ति एवं धन का लाभ भी प्राप्त होता है ।
* दसवाँ अधयाय:- इस अध्याय के पाठ से गुमशुदा की तलाश होती है, शक्ति और संतान का सुख भी प्राप्त होता है ।

* ग्यारहवाँ अध्याय:- ग्यारहवें अध्याय के पाठ से किसी भी प्रकार की चिंता,  व्यापार में सफलता एवं सुख-संपत्ति की प्राप्ति होती है ।

 

* बारहवाँ अध्याय:-  इस अध्याय के पाठ से रोगो से छुटकारा, निर्भयता की प्राप्ति होती है एवं समाज में  मान-सम्मान मिलता है ।

* तेरहवां अध्याय:- तेरहवें अध्याय के पाठ से माता की भक्ति एवं सभी इच्छित वस्तुओं की प्राप्ति होती है ।

 

मनुष्य जब तक जीवित है तब तक उसके जीवन में उतार चढ़ाव आते ही रहते है । मनुष्य की इच्छाएं अनंत हुई और इन्ही की पूर्ति के लिए दुर्गा सप्तशती से सुगम और कोई भी मार्ग नहीं है । इसीलिए नवरात्र में विशेष रूप से दुर्गा सप्तशती के तेरह अध्यायों का पाठ करने का विधान है। प्रतिदिन पाठ करने वाले मनुष्य एक दिन में पूरा पाठ न कर पाएं, तो वे एक, दो, एक, चार, दो, एक और दो अध्यायों के क्रम से सात दिनों में पाठ पूरा कर सकते हैं। संपूर्ण दुर्गासप्तशती का पाठ न करने वाले मनुष्य को देवी कवच, अर्गलास्तोत्र, कीलकम का पाठ करके देवी सूक्तम को अवश्य ही पड़ना चाहिए।

 

पं० कृष्णकुमार शास्त्री